Friday, October 26, 2018

मधुबन से अन्य जैन तीर्थों के लिए यात्रा का विवरण


बिहार एवं झारखंड में राज्य में जैन धर्मावलंबियों का प्रमुख तीर्थ स्थल है। इन सभी का जिक्र इस ब्लाग में किया जा चूका है विस्तृत जानकारी के लिए लेख को पढ़ना ना भूलें। इन लेखों के शीर्षक कुछ इस प्रकार है - ऐसे करें पारसनाथ पर्वत की परिक्रमा, बिहार झारखंड के जैन तीर्थ स्थल, गिरिडीह जिला के जैन तीर्थस्थल तथा काफी रोमांचकारी है पारसनाथ पर्वत की यात्रा। सबसे पहले भक्तगण मधुबन ( शिखरजी) ही आते हैं इसके बाद ही अन्य स्थलों के लिए रवाना होते हैं। यहां परविहन की सुविधा उपलब्ध है। छोटी बड़ी सभी गाड़ियां सभी उपलब्ध है।

                                     यात्रा सूची

एक दिन की यात्रा श्वेतांबर एवं दिगंबर यात्रियों के लिए 
प्रातः पांच बजे शिखर जी से प्रस्थान 
1. पालगंज ( 15 किलो मीटर)                              2. ऋजुबालिका ( 5 किलोमीटर)
3. गिरिडीह ( 12 किलो मीटर)                              4. नवादा ( 178 किलो मीटर)
5. गुणावा ( 2 किलो मीटर)                                  6. पावापुरी ( 23 किलो मीटर)
7. नालंदा ( 23 किलो मीटर)                                 8. कुंडलपुर ( 2 किलो मीटर)
9. राजगृह ( 15 किलो मीटर) और यहीं पर यात्रा समाप्त

तीन दिनों की यात्रा दिगंबर यात्रियों के लिए
प्रथम दिन - प्रातः बजे शिखरजी से प्रस्थान,
1. गिरिडीह ( 32 किलो मीटर)                            2. देवघर ( 110 किलो मीटर)
3. मंदारगिरि ( 65 किलो मीटर)                         4. भागलपुर( 60 किलो मीटर)
5. चंपापुर ( 5 किलो मीटर), चंपापुर  धर्मशाला में रात्रि विश्राम
 दूसरा दिन  - प्रातः सात बजे चंपापुर से प्रस्थान
1. नवादा - ( 210 किलो मीटर)                          2. गुणावा ( 02 किलो मीटर)
3. पावापुरी - ( 23 किलो मीटर) और पावापुरी धर्मशाला में रात्रि विश्राम
तीसरा दिन - पावापुरी से प्रातः दस बजे प्रस्थान
1. नालंदा - ( 23 किलो मीटर)                           2. कुंडलपुर( 2 किलो मीटर)
3. राजगृह  ( 15 किलो मीटर) यहां यात्रा समाप्त
तीन दिनों की यात्रा  ष्वेतांबर यात्रियों के लिए
 प्रथम दिन - शिखरजी से प्रातः पांच बजे प्रस्थान
1.ऋजुबालिका - ( 210 किलो मीटर)                   2.गिरिडीह - ( 12 किलो मीटर)
3. भागलपुर - ( 240 किलो मीटर)                      3.चंपापूर  - ( 5 किलो मीटर) यात्रा समाप्त
 दूसरा दिन  - चंपापूर से प्रातः पांच बजे प्रस्थान
1.लछवाड़ - ( 140 किलो मीटर)                      2. गुणावा - ( 72 किलो मीटर)
3. पावापुरी - ( 23 किलो मीटर) और पावापुरी में ही रात्रि विश्राम
तीसरा दिन   - पावापुरी से प्रातः दस बजे प्रस्थान
1. नालंदा - ( 23 किलो मीटर)                        2. कुंडलपुर - ( 2 किलो मीटर)
3.  राजगृह -( 210 किलो मीटर) और राजगृह में ही यात्रा समाप्त। यहां आपको बता दें कि राजगृह से 65 किलोमीटर की दूर पर गया जंक्शन तथा 110 किलोमीटर की दूरी पर पटना जंक्शन है।



No comments:

Post a Comment